तिरंगा

आओ तिरंगा लहराये
        आज तिरंगा फहराये
स्वतन्त्रता दिवस का पर्व है
         चलो मिलकर खुशियाँ मनाये

तीन रंग में बना है निर्मल
       देश का गर्व बढाता है
भारतीय जनमानस में
       देशप्रेम की हिलोरें भरता है

केसरिया रंग शौर्य लाता
        श्वेत शांति प्रतीक है
हरियाली है हरित रंग
       देश की समृद्धि दर्शाता है

गम हों या हो खुशियाँ
       मूक बना सब सहता है
मुदमंगल में ऊँचे लहराता
      गम में ये झुक जाता है

मेरे देश का गर्व तिरंगा है
       खुशियों की पावन गंगा है
झूम ,झूम लहराता है
       आजादी की गौरव गाथा है

खेल खिलाडी जीते यदि
     विदेशों में धूम मचाता है
उमंग भरे चले खिलाडी
      हाथों में ये लहराता है

आन, बान,जान तिरंगा है
      भारत का अरमान तिरंगा है
स्वाभिमान का गान तिरंगा है
     मातृभूमि की पहचान तिरंगा है

आओ इसको नमन करें
       सदा इसका सम्मान करें
झंडा ऊँचा रहे हमारा
      प्रार्थना में गुणगान करें

✍ सीमा गर्ग मंजरी
मेरी स्वरचित रचना ©
मेरठ

 

Leave a Reply